हम किसे सेवा देते हैं

संहिता का लक्ष्य केवल गरीब परिवारों के साथ काम करना है । संहिता की सेवाएँ लेने वाला आम ग्रामीण परिवार के सदस्य कच्चे झोपडी में रहते हैं, उनके पास कोई भूमिधन या पशुधन नहीं होता, और ज़मींदारों के खेतों में या निर्माण परियोजनाओं पर दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करते हैं । संहिता का माईक्रोफाईनांस कार्यक्रम केवल परिवार की महिलाओं को सेवा देती है ।

हम संहिता गरीबी आकलन अंक [SPAS] की प्रक्रिया का उपयोग करते हुए यह निर्धारण करते हैं कि क्या वास्तव में एक परिवार गरीब है और हमारी सेवाएँ लेने के लिए उपयुक्त पात्र है । गरीबी की वैश्विक परिभाषा पर अधिक गहराई से चर्चा के लिए यहाँ क्लिक करें

SPAS निर्धारण का मापदंड ग्रामीण और शहरी समुदायों के लिए अलग-अलग है । ग्रामीण समुदायों के लिए परिवार की संपत्ति (घर, भूमिधन, पशुधन, अन्य), आय के स्तर और स्थायित्व, परिवार का आकार, मौजूदा ऋण, और अचानक से आने वाले विपत्तियों से होने वाले नुकसानों की समीक्षा द्वारा की जाती है । हमारे लिए ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब वह हैं जिनकी साधारणतः प्रति व्यक्ति दैनिक व्यय व्यापक रूप से स्वीकार्य अति गरीब की परिभाषा अमेरिकी डॉलर 1.25 (क्रय शक्ति समानता) से कम है ।

शहरी परिवारों की स्थिती में यह सीमा बड़ाई जाती है । शहर में बाजारों के निकट बसने के कारण गरीब लोगों के पास आमदनी के अधिक अवसर होते हैं, और साथ ही साथ कम कीमत पर पुराने उपयोग किये गए उपभोक्ता वस्तुएँ खरीदने की संभावनाएँ अधिक होती है । शहरी परिवारों के लिए, हम यह देखते हैं कि परिवार में प्रति व्यक्ति प्रति माह की आमदनी मोटे तौर पर रुपये 2000 से कम हो । उसके साथ-साथ हम वर्तमान में परिवार की संपत्ति, आय के स्तर और स्थायित्व, परिवार का आकार और मौजूदा ऋण की समीक्षा भी करते हैं ।

sDevNet.org webPortal v2.0 © 2011 eCubeH Research Labs + Acknowledgements